अतिशयोक्ति

सवेरे सवेरे आग के अंगारों के भाँति वो हमारी तरफ़ भागते हुए आए और चिल्लाते हुए कहने लगे ” तुमने हमारे जीवन को नष्ट कर दिया है! एक दिन ऐसा आएगा की तुम भी आग की भाँति जल उठोग़े!!”

हमनेभी उनसे आँखें तरेरते हुए कहा ‘ जले हुए हो को और कितना जलाओगे? ‘

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s